दिल्ली के डॉक्टर सुसाइड केस में आम आदमी पार्टी के विधायक प्रकाश जरवाल और उनके सहयोगी कपिल नागर के खिलाफ गैर जमानती वारंट जारी किया गया है।विधायक प्रकाश जारवाल और कपिल नागर की पुलिस तलाश  कर रही है। बताया जा रहा है कि विधायक प्रकाश जारवाल को दिल्ली पुकिस ने पूछताछ के लिए दो बार बुलाया लेकिन वे दोनों बार दिल्ली पुलिस के सामने पेश नहीं हुए।मालूम हो कि दिल्ली एक डॉक्टर राजेंद्र सिंह ने 18 अप्रेल को अपने आवास पर फांसी लगा लिया था।पुलिस ने उक्त लास को डॉक्टर के घर से मृत अवस्था मे बरामद किया था।घटनास्थल से पुलिस ने डॉक्टर राजेंद्र सिंह द्वारा हस्तलिखित सुसाइड नोट बरामद किया था। 2 पेज के सुसाइड नोट में डॉ राजेंद्र सिंह ने देवली के विधायक प्रकाश जारवाल एवं उनके सहयोगी कपील नागर पर आरोप लगाया था कि दोनों के द्वारा बार बार कोरोना राहत कोष से पैसे मांगा करते थे।
डॉक्टर राजेन्द्र सिंह ने 18 अप्रैल को अपने घर में फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली थी. पुलिस को राजेन्द्र भाटी का एक सुसाइड नोट बरामद हुआ था सुसाइड नोट में आम आदमी पार्टी के देवली विधायक प्रकाश जरवाल और उसके सहयोगी कपिल नागर का का नाम था.बता दें कि दिल्ली के नेब सराय इलाके में 52 वर्षीय डॉक्टर राजेन्द्र सिंह ने फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली थी. मृतक के पास से एक 2 पेज का सुसाइड नोट मिला था जिसमें उसने आत्महत्या के लिए इलाके के विधायक प्रकाश जरवाल और उसके सहयोगी कपिल को जिम्मेदार ठहराया था। सुसाइड नोट में लिखा था, ‘ टैंकरों को दिल्ली जल बोर्ड से हटवाने के बाद जब उन्हें ओखला के दिल्ली जल बोर्ड के लगवाया गया तो टैंकरों को वहां से भी प्रकाश जरवाल द्वारा हटवा दिया गया.’ नोट के अनुसार प्रकाश जरवाल और उसके सहयोगी से जान से मारने की धमकी भी मिल रही थी और धमकियों से जीना मुश्किल हो गया था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here